Monday, August 1, 2011

ये शहर है मुंबई

ट्राफ्फिक में फसे एक अन्थोनी साहब का गुस्सा

या लोकल ट्रेन की भीड़ में अटके शर्माजी का पिछला हिस्सा

सुबह अखबार देने आने वाला अब्दुल का किस्सा

या चौराहे पर खड़े हवालदार ताम्बे का वो बड़ा वाला मस्सा



येहाँ सबकी अकल में और सबकी शकल में

उम्मीद से देखते हुए उस कल में और इस भागते हुए पल में

जीतोड़ मेहनत के फल में

और पानी से सूखा बेचारे मुनिसिपलिटी के नल में



दिखता है ये शहर, इस शहर का छाप

दिखता है प्यार और ज़हन में छुपा थोडा सा पाप

दिखता है इस शहर की तेज़ी, इस शहर की रफ़्तार

दिखते हैं कई आम आदमी और कुछ अवतार



पैसा भी दिखता है और प्यार भी दिखता है

इस रोज़ मर्रा की ज़िन्दगी में कई रास्ता बार-बार भी दिखता है

हर शहर की तरह सुबह भी दिखती है और दिखती है रात भी

पर कुछ कोनो में फिल्मी सितारें और कोशिश की बरात भी



येहाँ भीड़ है फिर भी इलाज सूनेपन का नहीं

लम्बी इमारतें हैं, पर नामोनिशान आँगन का नहीं

दूरियां हैं पर तन्हाईयों का काम नहीं

घर तो फिर भी मिल जाता है यहाँ पर पडोसी का नाम नहीं



यहाँ सबको पाना है, सबको कमाना है

नापसंद कर के भी सबको यहीं रुक जाना है

सड़क की खड्डों को कोसना है और कभी उन पे ही हँसना है,

कभी उसी सड़क के कोने में खड़े होके छुपके से रोना है



क्यूंकि ऐसे ना धड़कता किसी और शहर का गली चौपारा

वो मरीन ड्राइव पे चलना और फलोरा फाउन्टेन का फव्वारा

ना ट्रेन के धक्के खाके रोज़ ऑफिस आना

ना ऑटो-वाले की खिट-पिट और ना टेक्सी-वाले का बहाना



बैठ के सोचो तो सब बुरा है फिर भी कुछ तो अच्चा है

अभी भी यहाँ लोगों के दिल में कुछ तो सच्चा है

बदमाश है पाटिल, पर प्यारा उसका बच्चा है

अमीरों की भीड़ में गरीब यहाँ भी कच्चा है



कई हैं खामियां, रोज़ कमियाँ हैं नई

गन्दगी, धूल, मिट्टी है पर मिट्टी की खुशबू हैं कई

अँधेरी से चेम्बूर, या जाओ कोलाबा से पोवाई

हर वक़्त एक नया ही अहसास दिलाये, ये शहर है मुंबई


Kindly Note: This poem has been written by Promit Mukherjee, from DNA Money, one of the most kickass writer i know :)

1 comment:

Sankoobaba said...

beautiful
stunning
perfect
..
ekdum solllidddd!!!
jhakkas..

very true..
very real..